Thursday , 24 June 2021

एक पैर नहीं होने के बावजूद खेलों में प्राप्त सफलताओं के लिए अंशुल की सराहना की

राज्यपाल श्री कलराज मिश्र ने दुर्घटना में अपना एक पैर गंवाने के बावजूद खेलों में देश का नाम रोशन करने वाले अंशुल बंसल को शनिवार को राजभवन में आयोजित एक संक्षिप्त कार्यक्रम में जर्मन तकनीक आधारित कृत्रिम पैर (ओटो बोक लेग) प्रदान किया।

राज्यपाल श्री मिश्र ने इस मौके पर कहा कि पर्वतारोहण के लिए विशेष रूप से निर्मित इस कृत्रिम पैर से अब अंशुल पर्वतारोहण में भी देश का नाम रोशन कर सकेगा। उन्होंने इसके लिए श्री गुरू देवा चेरिटेबल ट्रस्ट के सहयोग से भारत सरकार के उपक्रम आईएफसीआई सोशल फाउंडेशन द्वारा प्रदत्त इस सहयोग के लिए उनकी सराहना भी की। उल्लेखनोय है कि अंशुल ने दिव्यांग होते हुए भी पैरा स्पोर्ट्स गेम्स, डिस्कस थ्रो,पॉवर लिफ्टिंग और साइकलिंग आदि खेलों में बहुत से पदक प्राप्त किए हैं।

श्री मिश्र ने अंशुल द्वारा खेलों में प्राप्त उसकी सफलताओं के लिए सराहना करते हुए हुए उसके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने श्री गुरू देवा चेरिटेबल ट्रस्ट द्वारा अंशुल की सहायता के लिए आगे आने के कदम की सराहना करते हुए इससे दूसरों को भी प्रेरणा लेने का आह्वान किया।

इस अवसर पर श्री गुरू देवा चेरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री जगदीश बाबू और आईएफसीआई के महाप्रबंधक श्री संजीव कुमार जैन ने दिव्यांग सहयोग के लिए किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी दी।

Check Also

डॉ. अम्बरीश शरण बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति नियुक्त

डॉ. अम्बरीश शरण बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति नियुक्त राज्यपाल ने आदेश जारी कर दी …